तेरी गुड़िया, तेरी बेटी हुई हूँ। -बम्भू

तथाकथिक तेरी जाती, धर्म, समाज तेरी,ये उंच-नीच, तीन-पाँच तेरी,मैं मरी नहीं, मारी गयी हूँ, बात सुनो,महज़ वो चार नहीं, कातिल समाज बात सुनो,गाँव के प्रधान, और थाने के कोतवाल सुनो,दयाल-दीन-गुरु-धर्म-के-समाज…

0 Comments
तेरी गुड़िया, तेरी बेटी हुई हूँ।  -बम्भू
तेरी गुड़िया, तेरी बेटी हुई हूँ