सबसे बड़ी त्रासदी में जमात की जंग, कौन है विलेन ?

भारत पूरी दुनिया की तरह कोरोना वायरस की बीमारी महामारी से लड़ रहा है, परंतु विश्व और भारत के संदर्भ में एक अंतर है। इस महामारी के बारे में केवल एक ही बात ही अनावश्यक चर्चा कर रही है– मुसलमानों के धार्मिक समूह “तब्लीग़ी जमात” से जुड़ाव की।
Hazrat Nijamuddin Markaz Ka Maulana Saad
Hazrat Nijamuddin Markaz Ka Maulana Saad- Image source India Today

क्या हैं तब्लीगी जमात ?

“तब्लीग़ी जमात” – तब्लीग़ी का अर्थ है धर्म का प्रचार, जमात का अर्थ है झुण्ड या समूह। तब्लीगी जमात- विश्व स्तर पर सुन्नी इस्लामी धर्म प्रचार आंदोलन है, जो मुसलमानों को मूल इस्लामी तौर तरीके की तरफ ध्यान केंद्रित करना और इसके उद्देश्य अध्यात्मिक इस्लाम को मुसलमानों तक पहुंचाना और फैलाना है। खास तौर पर धार्मिक तौर-तरीके, वेशभूषा, व्यक्तिगत गति विधियां। तबलीगी जमात का जन्म 1926- 27 के दौरान भारत में हुआ था। मौलाना मोहम्मद इलियास ने इसकी इस काम की नींव रखी तथा यह एक धर्म प्रचार आंदोलन माना गया ।

तब्लीगी जमात के संस्थापक मोहम्मद इलियास एक ऐसा आंदोलन बनाना चाहते थे, जो कुरान के फरमान के दिशा अनुसार भलाई और बुराई पर रोक लगाएगा, इसकी प्रेरणा उन्हें 1926 में मक्का की दूसरी तिथि यात्रा के दौरान मिली। उनके पास विद्वानों को सीखने,उपस्थिति,करिश्मा या बोलने की क्षमता में कमी थी, इसलिए उन्होंने उत्साह के लिए बनाया। उन्होंने शुरू में मेवाती मुसलमानों को इस्लामी मान्यताओं और प्रथाओं के बारे में शिक्षित करने के लिए मस्जिद आधारित धार्मिक स्कूलों का एक फैलाव स्थापित करने का प्रयास किया। कुछ ही समय पश्चात इस वास्तविकता से निराश थे, ये संस्थाएं धार्मिक कार्यकर्ताओं का निर्माण कर रही थी, लेकिन प्रचारक नहीं।

कैसे हुई तब्लीगी जमात की शुरुआत ?

मोहम्मद इलियास ने सहारनपुर के मदरसा मजार उलूम के मैं अपने शिक्षण पद को त्याग दिया और मुसलमानों में सुधार के लिए एक मिशनरी बन गए, लेकिन उन्होंने गैर मुस्लिमों को उपदेश देने की वकालत नहीं की। वह दिल्ली के पास निजामुद्दीन में स्थानांतरित हो गए, जहां 1926 में औपचारिक रूप से यह आंदोलन शुरू किया गया। वर्तमान में तब्लीगी जमात का विश्व के 140  देशो में केंद्र स्थापित है। 2014 में तबदीली जमात के तत्कालीन प्रमुख मौलाना जुबेर के निधन के बाद मौलाना साद ने खुद को प्रमुख, यानी संगठन का अमीर घोषित कर दिया।

 इसके बाद तबलीगी में फूट पड़ गई और दो गुट बन गए, एक गुट दिल्ली का है तो दूसरा भोपाल। मौलाना साद  के विरोधियो ने निजामुद्दीन से नाता तोड़ लिया, दारुल उलूम देवबंद ने मौलाना साद के खिलाफ इस्लाम और कुरान की गलत व्याख्या करने का आरोप लगाते हुए, तभी से दूरी बनाने का तरीका फ़तवा जारी किया।

क्यों हो रही है निंदा ?

तब्लीगी जमात के निजामुद्दीन गुट ने एक धार्मिक मंडली कार्यक्रम, निजामुद्दीन पश्चिम, दिल्ली में अल्लामी मशवरा कार्यक्रम 14 से 16 मार्च 2020 में अखिल भारतीय कार्यक्रम के पहले अखिल भारतीय कार्यक्रम का ऐलान किया था, जिसमें कई विदेशी वक्ताओं ने भाग लिया था और 2000 हजार से अधिक सदस्य उपस्थित हुए थे। यह संदेह है कि इनमें से कुछ स्पीकर कोरोनावायरस से संक्रमित थे, जो बाद में मंडलियों में फैल गए। 13 मार्च 2020 को, दिल्ली सरकार ने आदेश दिया कि किसी भी सेमिनार, आईपीएल जैसे खेल आयोजनों, सम्मेलन या किसी भी बड़े कार्यक्रम जिसमें 50 से अधिक लोगों अर्थात जमात को बड़ी जमात को दिल्ली में अनुमति नहीं दी जाएगी। 

22 मार्च 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा जनता निषेधाज्ञा घोसना किया गया। इसके पश्चात भी मरकज़ को खली नहीं किया गया। तत्पश्चात कार्यवाही किया गया और महामारी रोग अधिनियम, 1897 को लागू करके  निवारक कदम उठाए गए। 30 मार्च, 2020 तक पूरे निजामुद्दीन पश्चिम क्षेत्र को पुलिस द्वारा बंद कर दिया गया, और चिकित्सा शिविर लगाए गए हैं। इस तब्लीगी जमात के मुखिया मोहम्मद साद का विडिओ (जिसे ABVP न्यूज़ ने कवर किया है) सामने आया है जिसमे इस्लाम का प्रचार कर रहे है, सवाल प्रचार में नहीं अपितु उनके कतिथ सन्देश में है जिसमे मौलाना साद कह रहे है की कोरोना उन्हें एक दूसरे से अलग करने का बहाना है। 

तब्लीगी जमात भारत के प्रमुख कोरोनोवायरस हॉटस्पॉट में से एक के रूप में उभरा और  भारत में पहचाने गए 2000 से अधिक मामलों के लगभग 20% सकारात्मक मामले (389 मामले) सामने आने के बाद, इसे तबलीगी जमात से निकले पाया गया। तबलीगी जमात भारत का पहला  कोरोनोवायरस ‘सुपर-स्प्रेडर’ गया । 

 

जफ़र सरेशवाला-इस्लाम के एक्सपर्ट ABVP न्यूज़ विडिओ क्लिप-

तब्लीगी जमात का काम धर्मान्तर का काम बिल्कुल नहीं है वह सिर्फ मुसलमानों में काम करते हैं, और एक आदमी जो है वह सच्चा इंसान बने, अच्छा इंसान बने, अच्छा पड़ोसी बने, अच्छा बेटा बने, अच्छा भाई बने, अच्छा बाप बने अच्छा शहरी बने।

Leave a Reply