राजस्थान में कोविड-19 संक्रमित लोगों की संख्या 3000 पार?

CoVid-19 Update:04-05-20, Lockdown 3.0

ऐसा बताया जा रहा है की राजस्थान में कोरोनोवायरस यानि Covid-19 से संक्रमित लोग की सांख्य 3000 हो गया है।

भारत में कोरोनावायरस लगातार जारी है।कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 1375 को पार कर चुका है। वही एक अच्छी बात यह है कि अब तक 11607 से ज्यादा लोग ठीक हो कर घर जा चुके हैं।

यदि सरकारी आंकड़ों की  मानें तो अब तक 42000 से ज्यादा कोविड-19 पोजिटिव लोगों का पता चला है जबकि उसमें से 11706 से ज्यादा लोग ठीक होकर अपने घर वापस जा चुके हैं। अब तक कोविड-19 से मरने वाले  लोगों की संख्या 1376 हो चुकी है। यह जानकारी 4 मई 2020 को भारतीय समय अनुसार 8:00 पर अपडेट किया गया। 

नवभारत टाइम्स की एक खबर के मुताबिक 3 मई को राजस्थान में  123 नए मामले सामने आए।  इसके साथ ही राजस्थान में अब तक 3009 मामले सामने आ चुके हैं। राजस्थान में कोविड-19 के वजह से कुल 75 मौत बताई जा रही है।

जैसा कि आपको पता है देशभर में कोरोना वायरस के वजह से लॉक डाउन चल रहा है इसके वजह से देश को भारी आर्थिक हानि हो रही है। वहीं दूसरी तरफ देश में कोरोनावायरस से हो रहे संक्रमण के वजह से बहुत ज्यादा खर्च करना पड़ रहा है। इसके बावजूद अभी जितना किया जा रहा है वह कम बताया जा रहा है।लोगों की माने तो भारत में टेस्टिंग बहुत कम हो रही है। भारत में अभी जितनी टेस्टिंग हो रही है उससे कहीं ज्यादा रफ्तार से टेस्टिंग कराने की जरूरत है, और सोशल डिस्टेंसिंग को लगातार बनाए रखने की भी जरूरत है। इसके साथ ही  मैन्युफैक्चरिंग पर ध्यानाकर्षण की जरूरत भी है।

ऐसे में केंद्र और राज्य सरकार एक दूसरे के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और हरसंभव देश को और देश की जनता को बचाने की कोशिश कर रही है। 

ऑरेंज ज़ोन

ऑरेंज ज़ोन

ग्रीन ज़ोन

रेड, ऑरेंज और ग्रीन ज़ोन क्या होता है?

केंद्रीय गृहमंत्रालय ने 1 मई 2020 को लॉकडाउन 3.0 के बारे में बाता चुकी है। एक सबसे महत्वपूर्ण बात, जिलों को अलग-अलग 3 जोनों में बांटना। जिसमें रेड ज़ोन, ऑरेंज ज़ोन, और ग्रीन ज़ोन का जिक्र आता है । 

जहां पर कोविड-19 की मरीजों की संख्या ज्यादा है या लगातार मामले सामने आ रहे हैं ऐसे जिलों को रेड ज़ोन में रखा गया है। इससे थोड़ा अलग ऑरेंज जोन मैं उन जिलों को रखा गया है जिसमें पिछले 21 दिन में कोई नया मामला नहीं आया है लेकिन इससे पहले वह रेड ज़ोन में था। यदि किसी ऑरेंज ज़ोन में आने वाले डिस्ट्रिक्ट में अगले 21 दिन तक भी कोई नया केस सामने नहीं आता है उस स्थिति में उस जिला को ग्रीन जोन में रखा जाएगा।

पत्र में बताया गया है की कौन सा जिला किस जोने में आता है इस बात का निर्णय स्थानीय प्रशासन वह सरकार के जिम्मे है। ज़ोन की आइडेंटिटी हर हफ्ते या हफ्ते से पहले भी बदली जा सकती है। केंद्र ने राज्य सरकारों से और जिला प्रशासन से यह आग्रह किया है कि स्थिति के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी अपडेट की जाए और उसके आधार पर ज़ोन की पहचान बताई जाए। 

इस खबर के आने के बाद से ही एक बात सामने आ रही है कि लोग ऐसा समझ रहे हैं कि जो क्षेत्र रेड ज़ोन में आ रहा है वहां पर शील लगा दिया जाएगा या फिर शील जैसी कोई बात सामने आएगी। तो मैं स्पष्ट कर दूं ऐसा कुछ नहीं है, जो जिले रेड ज़ोन में आ रहे हैं वहां पर विशेष सावधानी बरती जा रही है और चीजों को अत्यंत शक्ति से लागू किया जा रहा है।इसके बावजूद सभी प्रकार के आधारभूत सर्विसेज और आपातकालीन सर्विसेस चालू रहेंगे और आपका जो भी राज्य सरकार है वह इस चीज को तय करेगी कि क्या-क्या चीजें, क्या-क्या गतिविधियां प्रतिबंधित होगी और क्या-क्या नहीं होंगी ।इसलिए अपने राज्य सरकार के संपर्क में रहे अन्य सूत्रों के बाद पर ज्यादा ध्यान ना दें।

 

देशभर में क्या-क्या प्रतिबंधित रहेंगे, लॉक डाउन 3.0?

स्पष्ट रुप से अब कयास लगाने का वक्त नहीं है। केंद्रीय गृहमंत्रालय ने आदेश जारी कर सभी चीजों के बारे में स्पष्ट किया है, और कुछ चीजों के बारे में लगातार अपडेट आ रहा है। ऐसे में हम आपको बताते हैं कि वह सेवाएं या गतिविधियां क्या है जो पूरे देश में प्रतिबंधित रहेंगी-

  • मंत्रालय द्वारा अनुमित श्रेणियों को छोड़कर हवाई, रेल, मेट्रो सेवाएं और सड़क द्वारा अंतर राज्य यात्रा प्रतिबंधित रहेंगी।
  • शैक्षणिक तथा प्रशिक्षण कोचिंग संस्थान (ऑनलाइन/दूरस्थ शिक्षा की अनुमति होगी) मतलब जो लोग ऑनलाइन कोचिंग या क्लासेस चलाते हैं उन्हें इसकी अनुमति होगी जबकि ऑफलाइन इस प्रकार की गतिविधियां  प्रतिबंधित रहेगी। 
  • होटल और रेस्तरां सहित आतिथ्य सेवाएं भी प्रतिबंधित रहेगी। 
  • सिनेमा घरों, मॉल, जिम, खेल परिसरों आदि स्थानों पर बड़ी संख्या में लोगों का इकट्ठा होना भी प्रतिबंधित होगा। लोगों से बार-बार अपील किया जा रहा है कि एक जगह झुंड
  • लॉकडाउन 3.0  में धार्मिक, सामाजिक, राजनैतिक और अन्य प्रकार की सभी सभाएँ भी प्रतिबंधित गतिविधियों में शामिल है।
  • शाम के 7:00 से सुबह के 7:00 बजे तक गैरजरूरी कामो के लिए कहीं पर आना-जाना भी प्रतिबंधित है।

Leave a Reply