डॉ. राजेंद्र प्रसाद की 136वीं जयंती पर उठी मांग, मुगल गार्डेन का नाम बादल कर रजेंदर बाबू के नाम पर रखा जाए।

फोटो: Prime India News, Patna

पटना 1 दिसम्बर 2020
आज पटना के होटल लेमन ट्री में राजेद्र प्रसाद की 136 वीं जयंती का आयोजन किया गया | इस अवसर पर राजेंद्र बाबू के पोते मनीष सिन्हा ने राजेंद्र बाबू के बारे में लोगों को जागरूक किया. कार्यक्रम की रूपरेखा के बारे में जानकारी देते हुए मनीष सिंह ने कहा कि हमलोग पिछले 6 वर्षों से राजेन्द्र बाबू की जयंती को मेघा दिवस घोषित करने के लिए आंदोलनरत है।
मनीष सिन्हा ने कहा कि उनकी संस्था की तीन प्रमुख मांगे हैं. हमारी पहली मांग है कि राष्ट्रपति भवन में स्थित मुग़ल गार्डन का नाम डॉ. राजेन्द्र प्रसाद जी के नाम पर रखा जाए उन्होंने आगे जोड़ा कि भारत के सभी प्रमुख नेताओं के नाम पर कोई ना कोई दिवस है. इनके बहाने देश की युवा पीढ़ी को एक बार फिर से स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों से जुड़ने का मौका मिलता है. डॉ. राजेन्द्र प्रसाद भारत के पहले राष्ट्रपति भी रहे और स्वंत्रता संग्राम में उनके योगदान भी किसी परिचय का मोहताज नहीं है. इनके बाद भी उनके नाम पर कोई दिवस नहीं है. संगठन की ओर से उन्होंने राजेन्द्र बाबू की जयंती को “मेघा दिवस’ घोषित किये जाने की मांग की.
इस कार्यक्रम में भारत की पहली प्रेसिडेंशियल डिजिटल लाइब्रेरी का उद्घाटन किया जाएगा. यह डिजिटल लाइब्रेरी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद से जुड़ी सभी वीडियो, तस्वीरों, उनके बारे में लिखी किताबों और उनके द्वारा लिखी गयी किताबों को एक मंच पर संग्रहित करेगा. बिहार पॉजिटिव एवं इंडिया पॉजिटिव का प्रयास है कि इस माध्यम से युवाओं को एक स्थान पर डॉ. राजेन्द्र प्रसाद से जुड़ी जानकारी एक ही जगह पर मिल सके.

देशरत्न राजेंद्र प्रसाद की जयंती को मेधा दिवस के रूप में मनाया जाए- मनीष सिन्हा
3 दिसम्बर को भारत की पहली प्रेसिडेंशियल डिजिटल लाइब्रेरी का विधानसभा अध्यक्ष करेंगे उद्घाटन
मुग़ल गार्डन का नाम डॉ राजेंद्र प्रसाद के नाम पर रखने उठी मांग


मनीष सिन्हा पिछले कई वर्षों से डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती पर ऐसे कार्यक्रम का आयोजन पटना और राजधानी दिल्ली में करते आ रहे हैं. इस वर्ष के कार्यक्रम में डिजिटल लाइब्रेरी के शुभारंभ के अलावा बिहार में सकारात्मक कार्य करने वाले 10 जनों को सम्मानित भी किया जाएगा. ये सम्मान शिक्षा, उद्यमिता, साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगों को दिए जाएंगे. साथ ही सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्ग से आने वाले ऐसे व्यक्ति जिन्होंने समाज की बेड़ियों को तोड़ते हुए जीवन में अपना एक नया मुकाम हासिल किया है, उन्हें भी सम्मानित किया जाएगा.
तीन दिसम्बर को आयोजित होने वाले कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय सिन्हा होंगे. इसके साथ ही मंत्री, राम सूरत राय, विधायक नितिन नवीन, संदीप चौरसिया एवं पटना की मेयर सीता साहू भी उपस्थित रहेंगी

Leave a Reply